Header Ads Widget

Responsive Advertisement

Ad Code

Responsive Advertisement

Maghi Purnima Date and Time, Maghi Purnima - 2022

माघ पूर्णिमा को माघ पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है, जिसे माघ के हिंदू कैलेंडर महीने के दौरान होने वाली पूर्णिमा के दिन के रूप में जाना जाता है। यह दिन जनवरी या फरवरी के ग्रेगोरियन कैलेंडर महीने के दौरान आता है। इस अवधि के दौरान, हर बारह साल में शुभ कुंभ मेला आयोजित किया जाता है। प्रयाग या इलाहाबाद में त्रिवेणी संगम में होने वाला प्रसिद्ध कुंभ मेला और माघ मेला भी माघ महीने के दौरान पड़ता है।

Maghi Purnima also known by the name of Magh Purnima, is known to be a day of the full moon that occurs during the Hindu calendar month of Magh. This day falls during the Gregorian calendar month of January or February. During this time period, the auspicious Kumbh Mela is held every twelve years. The famous Kumbh Mela and the Magha Mela which takes place at Triveni Sangam in Prayag or Allahabad also falls during Magha month.

Maghi Purnima Date and Time, Maghi Purnima - 2022

    Maghi Purnima 2022 Date & Time | माघ पूर्णिमा

    Name of festival Day Date of festival
    Maghi Purnima Wednesday 16 February 2022
    Maghi Purnima's Time :
    Purnima Tithi starts : 21:40 - 15 February 2022
    Purnima Tithi Ends : 22:30 - 16 February 2022


    Magh Purnima 2022: हिंदू धर्म में पूर्णिमा का विशेष महत्व है. हर माह में पड़ने वाली पूर्णिमा (Purnima 2022) का अलग महत्व होता है. खासतौर से कार्तिक और माघ मास की पूर्णिमा (Kartik Month And Magh Month 2022) अहम होती है. पूर्णिमा तिथि को पवित्र नदियों में स्नान किया जाता है. लेकिन माघ माह में पड़ने वाली पूर्णिमा के दिन शाही स्नान किया जाता है. इसके लिए नियमित अंतराल पर एक महीने तक चलने वाले कुंभ मेले (Kumbh Mela) का आयोजन किया जाता है. माघ माह में पड़ने वाले पर्व जैसे मकर संक्रांति, मौनी अमावस्या, बसंत पंचमी आदि पर गंगा तट पर आस्था की डुबकी लगाई जाती है. आइए जानते हैं माघ पूर्णिमा की तिथि और पूजा विधि के बारे में.

    माघी पूर्णिमा पूजा विधि (Maghi Purnima Puja Vidhi 2022)

    इस दिन ब्रह्म मुहूर्त में उटा जाता है. घर की साफ-सफाई करें. गंगा नदी या पवित्र नदियों में स्नान संभव न हो तो घर पर ही गंगाजल युक्त पानी से स्नान करें और भगवान का ध्यान कर सर्वप्रथम भगवान भास्कर को ॐ नमो नारायणाय मंत्र का जाप करते हुए अर्घ्य दें. इसके बाद तिलांजलि दी जाती है. तिलांजलि देने के लिए सूर्य के सन्मुख खड़े हो जाएं और जल में तिल डालकर उसका तर्पण करें. इसके बाद ठाकुर और नारायण जी की पूजा करें. भोग में चरणामृत, पान, तिल, मोली, रोली, कुमकुम, फल, फूल, पंचगव्य, सुपारी, दूर्वा आदि चीजें अर्पित करें. आखिर में आरती-प्रार्थना करें और पूजा के बाद गरीबों और जरूरतमंदों को दान दें.

    Puja Vidhi In English

    On this day, it is removed in Brahma Muhurta. Clean the house. If it is not possible to bathe in the Ganges river or holy rivers, then take a bath with water containing Ganges water at home and after meditating on God, first of all, offer Arghya to Lord Bhaskar while chanting the mantra Om Namo Narayanaya. After this, renunciation is given. To give sacrifice, stand in front of the sun and offer sesame seeds in water. After this worship Thakur and Narayan ji. Offer things like charanamrit, paan, sesame, moli, roli, kumkum, fruits, flowers, panchagavya, betel nut, durva, etc. In the end, do aarti-prayer and after worship, donate to the poor and needy.

    Post a Comment

    1 Comments

    1. You can check out at|try} all the casinos that failed to make the grade right right here on our listing of sites sites|of websites} to keep away from. We undergo a 25-step review process for each and every casino we advocate, beginning by ensuring that they've a correct license from a revered jurisdiction. The best 점보카지노 websites are licensed in locations like Malta, Gibraltar, Alderney, or the UK. We also prefer to know that each casino web site is safe and has fully encrypted software utilizing SSL. Finally, we carry out a background examine on the company to see the place it's registered and investigate their online presence.

      ReplyDelete